18 मार्च, 2017

कविता का पंजाबी अनुवाद / अमरजीत कौंके

कैनेडा से निकलने वाली पत्रिका ‘‘पंजाब टुडे” के नए अंक में `भाषांतर’ में श्री अमरजीत कौंके द्वारा किए कविताओं के अनुवाद मेरी कविता भी शामिल हुई है। साथ अन्य कवि हैं- श्री मंगलेश डबराल, डा.अनीता सिंह, अन्नू प्रिया, डा. ऋतू भनोट, डा. संतोष अलेक्स, आशा पांडेय ओझा और ज्योति आर्य।
शुक्रिया पंजाब टुडे टीम और कवि मित्र कौंके जी
****************************************************
ਸ਼ਬਦਾਂ ਦੀ ਨਦੀ ਵਿਚ / ਨੀਰਜ  ਦਈਆ

ਮੈਂ
ਸੰਭਾਲ ਕੇ
ਰੱਖਿਆ ਹੈ
ਤੇਰਾ ਦਿੱਤਾ ਹੋਇਆ
ਗੁਲਾਬ

ਜਦੋਂ
ਤੂੰ ਦਿੱਤਾ ਸੀ
ਉਦੋਂ ਮੈਂ ਨਹੀਂ ਸੀ ਜਾਣਦਾ
ਉਸਨੂੰ ਲੈਣ ਦਾ
ਮਤਲਬ

ਨਹੀਂ ਜਾਣਦਾ ਸੀ
ਮੈਂ
ਕਿ ਕਿਸੇ ਨੂੰ
ਵੀ ਮਿਲ ਸਕਦਾ ਹੈ
ਚਾਹੇ ਅਣਚਾਹੇ
ਕੋਈ ਵੀ ਗੁਲਾਬ

ਹੁਣ ਤੂੰ
ਮੇਰੀ ਆਤਮਾ ਦੇ
ਵਿਹੜੇ ਵਿਚ
ਗੁਲਾਬ ਦੇ
ਫੁੱਲ ਦੇ ਨਾਲ
ਜਿਉਂਦੀ ਹੈਂ

ਤੇ ਮੇਰੇ
ਸ਼ਬਦਾਂ ਦੀ ਨਦੀ ਵਿਚ
ਉਡੀਕ ਦੇ ਨਾਲ
ਵਗਦੀ ਹੈਂ......

हिंदी कविता 
शब्दों की नदी में

मैंने संभाल रखा है
तुम्हारा दिया हुआ-
गुलाब ।

जब तुमने दिया था
तब मैं नहीं जानता था
उसे लेने का अर्थ।

नहीं जानता था मैं
कि किसी को भी मिल सकता है
चाहे-अनचाहे अचानक
कोई भी गुलाब ।

अब तुम
मेरे अंतस के आंगन में
गुलाब के फूल के साथ जीती हो
और मेरे शब्दों की नदी में
इंतजार के साथ बहती हो ।
००००

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें