28 अक्तूबर, 2016

दीप जलाए

सभी को
लीलता है-
अंधकार
मूर्त-अमूर्त
नहीं छोड़ता
वह किसी को
मगर मन में
जगमग करता है-
एक दीप सदा....

इस मन-दीपक को
आस-उम्मीद की
रोशनी देते रहना तुम।

तुम जो बैठे हो
दीप जलाएं
मेरे मन-आंगन !

-नीरज दइया

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें